वैज्ञानिक, समाजसेवी, स्वरोजगारी सहित किसानों का संगम होगा “बिहार विमर्श” !

खेती-किसानी एव स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए मुजफ्फरपुर शहर में राष्ट्रीय स्तर का सम्मेलन होने जा रही है। इसका नाम “बिहार-विमर्श” दिया गया है। 24 दिसंबर को होने वाले इस कार्यक्रम में देश भर के तमाम बिहार विकास के चिन्तक जुटेंगे जिसमे अग्रणी किसान, व्यापारी और देश-विदेश के कृषि वैज्ञानिक, बहुराष्ट्रीय कम्पनी के प्रबंधक सहित बिहार सरकार के नगर विकास मंत्री श्री सुरेश शर्मा, सहकारिता मंत्री राणा रंधीर, खाध एव आपूर्ति मंत्री मदन सहनी हिस्सा लेंगे।





सम्मेलन में करीब एक हजार किसान सहित स्वरोजगार के इच्छुक प्रतिभागी हिस्सा लेंगे। अग्रणी किसान, स्वरोजगारी, महिला उधमी, समाजसेवी को विशेष रूप से बुलाया गया है,जिन्होंने अपने के हुनर के बल पर बिहार के विकास में नए आयाम स्थापित किए हैं। कार्यक्रम के संयोजक ब्रजेश कुमार ने कहा कि इस सम्मेलन का उद्देश्य यह है कि बिहार के प्रतिभाओ के साथ आपसी समन्वय बैठकर बिहार के विकास को एक नया आयाम देना है ! सम्मेलन का दूसरा मुख्य मुख्य उद्देश्य कृषि क्षेत्र की नवीनतम तकनीक, जो लैब तक सीमित रह जाती थी, उन्हें किसान तक पहुंचाना है। ताकि वे उन तकनीकों को अपनाकर उच्च पैदावार हासिल कर सकें। बिहार की भौगोलिक स्थिति अच्छी है और हम देश के सभी हिस्से के बाजार में ताजा सब्जी व फूल, मछली भेजवा सकते हैं, क्योंकि सड़क मार्ग काफी आसन हो गया है, आनेवाले दिनों में मुजफ्फरपुर से हवाई सेवा शुरू हो जाएगी तो और सुगम हो जायेगा ! आज दूध केवल फैट की मात्रा के आधार पर नहीं लेते, बल्कि वे अब दूध में पीले पदार्थ अर्थात् कैरोटीन वाले ए2 दूध की माग करने लगे हैं। यह कैरोटीन हमारी देसी गाय के दूध में सर्वाधिक मात्रा में मिलता है। इससे हमारी देसी गाय को फिर से महत्व मिलने लगेगा।



You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.